मस्त नज़रों से देख लेना था,

मस्त नज़रों से देख लेना था,
अगर तमन्ना थी आज़माने की,
हम तो बेहोश यूं ही हो जाते,
क्या ज़रुरत थी मुस्कुराने की..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *