नया ताज़ा

कृपया मिस कॉल ना दे..😉😉

This is called reference to the context….🤪🤪🤩🤩 हवा की लहर बनकर.. तू मेरी खिड़की न खट खटा… मैं बन्द दरवाजे में तूफान समेटे बैठा हूँ….!!!! इस कविता में कवि अपनी गर्ल फ्रेंड को संकेत दे रहे है कि वो अपनी पत्नी के साथ बैठे है, कृपया मिस कॉल ना दे..😉😉

लखनवी तहजीब के क्या कहने!!”

.“लखनवी तहजीब के क्या कहने!!” लखनऊ में एक “सुलभ शौचालय” के दरवाजे पर टंगा नोटिस 😊 ” निहायत ही एहतराम और अदब के साथ कहा जाता है, की इस्तेमाल के बाद यादगार छोड जाने से खानदान का नाम रोशन नही होगा,” “इसिलिए हुजूर से गुजारिश है, कि ‘अपने किए कराए पर पानी फेर जाएं!!’….🤣🤣