आर्किमिडीज का सिद्धान्त

आर्किमिडीज का कार्यालयीन सिद्धान्त

जब कोई कर्मचारी किसी अधिकारी की भक्ति में पूर्णत: या आंशिक रूप से डूब जाता है तो उक्त कर्मचारी के धारित दायित्व-भार में उसकी भक्ति के अनुपात में कमी आ जाती है;…. तथा यह कमी उस कार्यालय के किसी अन्य कर्मचारी के कार्य-बोझ में होने वाली अतिरिक्त बढ़ोत्तरी के बराबर होती है।
..✍
🤣🤣

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *